पाकिस्तान के खिलाफ कड़ा रूख अख्तियार करना भारत के हित में, राजनयिक सम्बन्ध समाप्त हों :: हिन्दू महासभा

२७ नवम्बर २०१४, नई दिल्ली

अखिल भारत हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष चन्द्र प्रकाश कौशिक एवं राष्ट्रीय महामंत्री मुन्ना कुमार शर्मा ने एक संयुक्त वक्तव्य जारी करके भारतीय प्रधानमंत्री के उस रूख का समर्थन किया है, जिसमें उन्होंने पाकिस्तानी प्रधानमंत्री से बातचीत की पहल नहीं की. गौरतलब है कि नेपाल में हुई ‘सार्क’ देशों की बैठक में प्रधानमंत्री मोदी ने मुंबई हमले की बरसी पर आतंकवाद को सबसे बड़ा ज़हर बताया, वहीं मुंबई पर समुद्र मार्ग द्वारा हमले को कभी न भरने वाला ज़ख्म बताया. इसी हमले में पकडे गए आतंकवादी कसाब को फांसी हुई थी, जबकि इसका मास्टर माइंड हाफ़िज़ सईद अभी भी पाकिस्तान में खुलेआम घूम रहा है. राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री कौशिक ने पाकिस्तान की सरकार को स्पष्ट चेतावनी देते हुए कहा कि अब एक हाथ में बन्दूक और दूसरे हाथ में फूल की आतंकी नीति को उसे तत्काल छोड़ देना चाहिए, अन्यथा विश्व के नक़्शे पर उसकी पहचान समाप्त हो जाएगी. हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय महामंत्री श्री शर्मा ने पाकिस्तान से सभी तरह के राजनयिक संबंधों को समाप्त करने की वकालत करते हुए कहा कि पाकिस्तान को उसकी असल औकात का पता तब चलेगा जब भारत उसके साथ सभी तरह के व्यापार और संपर्क बंद कर देगा. हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय पदाधिकारियों ने विदेश नीति में संभलकर चलने की सलाह केंद्र सरकार को देते हुए घरेलू मोर्चों पर समस्याओं को सुलझाने की मांग की.

चन्द्र प्रकाश कौशिक
राष्ट्रीय अध्यक्ष

मोदी विदेश-यात्रा से ज्यादा देश को चमकाने में ध्यान लगाएं :: हिन्दू महासभा

नई दिल्ली, १७ नवम्बर २०१४

अखिल भारत हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष चन्द्र प्रकाश कौशिक एवं राष्ट्रीय महामंत्री मुन्ना कुमार शर्मा ने एक संयुक्त वक्तव्य जारी करके भारत के वर्तमान प्रधानमंत्री को देश की समस्याओं एवं चुनौतियों के प्रति आगाह किया है. गौरतलब है कि प्रधानमंत्री की विदेश यात्राओं को कुछ इस ढंग से प्रदर्शित किया जा रहा है, मानो इन यात्राओं से भारत की समस्याओं का निदान चुटकी में हो जायेगा. कुछ चाटुकार इसको अश्वमेघ यज्ञ करने की संज्ञा दे रहे हैं तो कुछ नरेंद्र मोदी को विश्वविजयी बनाकर खुश करने में लगे हुए हैं. राष्रीय अध्यक्ष श्री कौशिक ने कड़ा रूख अपनाते हुए कहा कि आखिर इस तरह के भ्रम जाल से क्या फायदा होने वाला है, किस तरह का विकास होने वाला है. वहीं हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय महामंत्री श्री शर्मा ने कहा कि सिर्फ मार्केटिंग के बल पर देश का विकास नहीं किया जा सकता है, बल्कि इसके लिए कठोर उद्यम करने की आवश्यकता है. भारत जैसे विकाशशील देश को रोजी, रोजगार, शिक्षा, स्वास्थ्य पर अपना ध्यान केंद्रित करने की आवश्यकता है, जिससे लोगों के जीवन-स्तर में सुधार आये. इसके साथ ही हिन्दू महासभा नेताओं ने कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए छत्तीसगढ़ में नसबंदी करने की लापरवाही से जिन महिलाओं की जानें गयी हैं, उसकी उच्च-स्तरीय जांच की मांग की है. इसके साथ-साथ विदेशी बैंकों में जमा काला धन को वापस भारत लाना ही होगा. केवल दुसरे देशों में जाकर आह्वान करने से काम नहीं चलेगा. नरेंद्र मोदी ने चुनाव से पूर्व देशवासियों से काला धन को वापस लाने व भ्रष्टाचार को समाप्त करने का आश्वासन दिया था, परन्तु अभी तक इस दिशा में कोई प्रगति नहीं हुई है. बेरोजगारी को समाप्त करने की दिशा में भी मोदी सरकार ने अब तक कोई कार्य नहीं किया है. अयोध्या में श्रीराम मंदिर का निर्माण, धारा -370 को समाप्त करने आदि वादों से भी सरकार पीछे हट रही है. अखिल भारत हिन्दू महासभा के नेताओं ने चेतावनी दिया है कि यदि मोदी सरकार देशवासियों के विकास पर ध्यान नहीं देगी तो हिन्दू महासभा सड़क से संसद तक आंदोलन करेगी.

मुन्ना कुमार शर्मा
राष्ट्रीय महामंत्री

कथित ‘किस ऑफ़ लव’ हिन्दुओं को भड़काने’ एवं भारतीय संस्कृति को और प्रदूषित करने की साजिश :: हिन्दू महासभा

नई दिल्ली, ११ नवम्बर २०१४

अखिल भारत हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष चन्द्र प्रकाश कौशिक, राष्ट्रीय महामंत्री मुन्ना कुमार शर्मा एवं राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री वीरेश त्यागी ने एक संयुक्त वक्तव्य जारी कर ‘किस ऑफ़ लव’ को हिन्दुओं को भड़काने की सोची-समझी साजिश बताया है. गौरतलब है कि देशद्रोही एनजीओ, विदेशों से चंदा लेकर देश को अस्थिर करने की साजिश पहले भी करते रहे हैं, इस मामले में भी देश की स्थिर, लोकतान्त्रिक सरकार को बदनाम करने की साजिश नजर आती है. हिन्दू महासभा के नेताओं ने दिल्ली में हिन्दू संगठनों के दफ्तर पर प्रदर्शन करने वाले तत्वों को न सिर्फ अराजक और क़ानून विरोधी बताया है, बल्कि हिन्दू सभ्यता को पूरे विश्व में बदनाम करने वाली भी बताया है. राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री कौशिक एवं राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री श्री त्यागी ने इस तरह के ‘पाशविक-कृत्य’ के लिए माता-पिताओं को भी दोषी माना है, जो अपने बच्चों को भारतीय संस्कृति नहीं सिखा पाये. हिन्दू महासभा के नेता, कार्यकर्त्ता हर स्तर पर इस राष्ट्रविरोधी गतिविधि का मुंहतोड़ जवाब देने को तैयार हैं. सड़क से संसद तक संघर्ष का आह्वान करते हुए हिन्दू महासभाइयों ने संस्कृति-विरोधियों की कड़ी निंदा की.

वीरेश त्यागी
राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री