All posts by HinduMahasabha

हिन्दू महासभा ने किया वैलेंटाइन डे का विरोध, प्रेमी युगलों की होगी शादी, गैर हिन्दू प्रेमियों की होगी घर वापसी – हिन्दू महासभा

नई दिल्ली, 12 फरवरी 2020


अखिल भारत हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय महासचिव मुन्ना कुमार शर्मा ने वैलेंटाइन डे का तीव्र विरोध किया है। उन्होंने कहा है कि वैलेंटाइन डे भारतीय संस्कृति के विरूद्व है तथा भारतीय युवतियों की जिंदगी बर्बाद करनेवाला है। इस डे का फायदा उठाकर धोखेबाज प्रेमयों द्वारा भारतीय युवतियों की जिंदगी बर्बाद की जाती है तथा युवतियों का अपमान किया जाता है। यह पाष्चात्य संस्कृति है, जिसे भारत पर थोप दिया गया है। पष्चिमी सभ्यता के द्वारा भारतीय प्राचीन परंपरा विवाह को नस्तनाबूद करने के लिये इसे वैलेंटाइन डे नाम से मनाया जाता है, जिसे पष्चिमी देष अब नहीं मनाते हैं। जब इस संस्कृति के जनक देषों ने ही इसे नकार दिया है, तो यह हिन्दुस्तान में क्यों मनाया जायें।
राष्ट्रीय महासचिव मुन्ना कुमार शर्मा ने घोषणा की है कि वैलेंटाइन डे के दिन प्रेमी युगलों का हिन्दू महासभा द्वारा विवाह कराया जायेगा। इसके लिये नई दिल्ली, मंदिर मार्ग स्थित हिन्दू महासभा कार्यालय में विवाह मंडप बनाया गया है। अखिल भारत हिन्दू महासभा के कार्यकर्ता पार्कों एवं सार्वजनिक स्थानों में उपिस्थत प्रेमी युगलों की काउंसिलिंग करेंगे तथा उसे हिन्दू महासभा कार्यालय लाकर विवाह के बंधन में बांधा जायेगा। इस कार्य को संपन्न कराने हेतु कई पुरोहितों की व्यवस्था करायी गई है। प्रेमी युगलों में से यदि कोई गैर हिन्दू होगा तो उसकी शुद्धि कराकर घर वापसी करायी जायेगी, इसके लिये सभी व्यवस्थायें कर ली गई हैं।

मुन्ना कुमार शर्मा
राष्ट्रीय महासचिव
फोनः9312177979

अंग्रेजो के बनाए नववर्ष को बहिष्कार करे देशवासी – श्री मुन्ना कुमार शर्मा (राष्ट्रीय महासचिव) अखिल भारत हिन्दू महासभा

अंग्रेजो के बनाए नववर्ष को बहिष्कार करे देशवासी – श्री मुन्ना कुमार शर्मा (राष्ट्रीय महासचिव) अखिल भारत हिन्दू महासभा राजधानी दिल्ली के हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय सचिव श्री मुन्ना कुमार शर्मा ने CAA, NRC के समर्थन में कहा कि इससे देश मे रह रहे किसी भी नागरिक को कोई नुकसान नहीं है बिपक्ष में बैठी समाजसेवी पार्टियां आपनी वोटबैंक को बढ़ावा देने के लिए देश की जनता को गुमराह कर रही हैं और आपस मे लड़वा रही है अतः जनता से अपील किया जाता हैं कि वो इनके बहकावे में ना आएएऔर देश वासियो को अंग्रेगो के बनाये गए इस नववर्ष का बहिष्कार करे

हिन्दू महासभा ने आयोजित किया महामना जयंती, स्वामी श्रद्वानन्द बलिदान दिवस एवं तुलसी पूजन का भव्य कार्यक्रम

नई दिल्ली,25 दिसंबर 2019

हिन्दू महासभा ने आयोजित किया महामना जयंती, स्वामी श्रद्वानन्द बलिदान दिवस एवं तुलसी पूजन का भव्य कार्यक्रम

आज मंदिर मार्ग, नई दिल्ली स्थित हिन्दू महासभा भवन में अखिल भारत हिन्दू महासभा, श्रेष्ठ संस्था व युवा हिन्दू सनातन संघ के तत्वावधान में अखिल भारत हिन्दू महासभा के पूर्व अध्यक्ष महामना पं0 मदन मोहन मालवीय की जयंती, स्वामी श्रद्वानन्द बलिदान दिवस समारोह व तुलसी पूजन कार्यक्रम का भव्य आयोजन किया गया। इस अवसर पर अखिल भारत हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष चन्द्रप्रकाश कौशिक, राष्ट्रीय महामंत्री मुन्ना कुमार शर्मा, राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री वीरेश त्यागी, राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य मदनश्री महाराज, प्रो0 बमबम सिंह, अशोक त्यागी, युवा सनातन संघ के अध्यक्ष बमबम ठाकुर, अनिल त्यागी, दिनेश त्यागी, श्रेष्ठ संस्था के महामंत्री वरिष्ठ अधिवक्ता सत्येंन्द्र वशिष्ठ सहित हिन्दूवादी व राष्ट्रवादी संगठनों के सैकड़ों प्रतिनिधि उपस्थित थे। सर्वप्रथम महामना पं0 मदन मोहन मालवीय व स्वामी श्रद्वानन्द के चित्र पर पुष्प अर्पित किया गया। दीप प्रज्वलन के बाद कार्यक्रम की शुरूआत की गई। इससे पूर्व हवन व पूजन किया गया। सभी उपस्थितजनों को तुलसी का पौधा भेंट स्वरूप दिया गया। समारोह को संबोधित करते हुए अखिल भारत हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष चन्द्रप्रकाश कौशिक ने कहा कि प्रत्येक वर्ष 25 दिसंबर को हमलोग तुलसी पूजन दिवस के रूप में मनाते हैं। उन्होंने कहा कि तुलसी स्वास्थ्य, धर्म एवं पर्यावरण के दृष्टिकोण से सर्वोत्तम पौधा है। इसलिये हमें इस पौधे को घर-घर लगाना चाहिए। उन्होंने क्रिसमस का बहिष्कार करने का आहवान किया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए अखिल भारत हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय महामंत्री मुन्ना कुमार शर्मा ने कहा कि महान स्वतंत्रता सेनानी व सनातन धर्म के रक्षक महामना पंडित मदन मोहन मालवीय जी का जन्म आज ही हुआ था। वे अखिल भारत हिन्दू महासभा के तीन बार अध्यक्ष रहे थें। उन्होंने ही बनारस हिन्दू विश्वविधालय की स्थापना की थी। वहीं हिन्दू महासभा के पूर्व अध्यक्ष स्वामी श्रद्वानन्द जी ने अपना पूरा जीवन शिक्षा व वैदिक धर्म के प्रचार में लगा दिया था। 25 दिसंबर को एक धर्माध्ंा मुस्लिम रशीद ने उनकी हत्या कर राष्ट्रद्रोह का कार्य किया। परन्तु उनकी हत्या के बाद गांधी द्वारा रशीद को भाई कहकर पुकारना तथा उसे माफ करने की बात करना अत्यंत निंदनीय है। ऐसे हिन्दू विरोधी गांधी को कोई महात्मा कहकर नहीं पुकारेगा। समारोह को राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री वीरेश त्यागी, मदनश्री महाराज, सत्येन्द्र वशिष्ठ एवं बमबम ठाकुर सहित कई हिन्दूवादी संगठनों के पदाधिकारियों ने संबोधित किया।

(वीरेश त्यागी)
राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री

नागरिकता संशोधन बिल को दोनों सदनों से पास करवा कानून बनाने पर अखिल भारत हिन्दू महासभा द्वारा मोदी सरकार का बहुत बहुत धन्यवाद – अखिल भारत हिन्दू महासभा


नागरिकता संशोधन बिल को दोनों सदनों से पास करवा कानून बनाने पर अखिल भारत हिन्दू महासभा द्वारा मोदी सरकार का बहुत बहुत धन्यवाद, हिन्दू महासभा द्वारा पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से आए गैर-मुस्लिम शरणार्थियों को स्थाई नागरिकता प्रदान करने की लम्बी लड़ाई आगे भी जारी रहेगी और आशा करते है की जल्द ही जनसँख्या नियंत्रण कानून तथा सामान नागरिक कानून भी जल्द ही मोदी सरकार द्वारा पास करवाया जायेगा

श्रीक्षेत्र पंढरपुर,जिला शोलापुर, महाराष्ट्र में आयोजित अखिल भारत हिन्दू महासभा की राष्ट्रिय कार्यकारिणी समिति की बैठक में सामान नागरिक कानून व एक विवाह और दो बच्चों का कानून शीघ्र लागू करने का प्रस्ताव पारित किया

श्रीक्षेत्र पंढरपुर, जिला – शोलापुर, महाराष्ट्र में अखिल भारत हिन्दू महासभा, पंढरपुर ईकाई द्वारा आयोजित “जागो हिन्दू सम्मेलन” में उपस्थित अखिल भारत हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय व महाराष्ट्र प्रदेश के पदाधिकारी।

अखिल भारत हिन्दू महासभा सहित सभी पक्षाकार संगठनों के प्रमुख पदाधिकारीयों को राममंदिर निर्माण व रखरखाव के लिये बनने वाले ट्रस्ट में सम्मिलित किया जायें, कारसेवकों पर किये गये मुकदमे वापस हों तथा मुस्लिम पक्षकारों के लिये स्थान 84 कोसी परिक्रमा से बाहर दी जाये-अखिल भारत हिन्दू महासभा

नई दिल्ली, 15 नवम्बर 2019

आज पार्टी मुख्यालय हिन्दू महासभा भवन, मंदिर मार्ग, नई दिल्ली में अखिल भारत हिन्दू महासभा के पदाधिकरियों ने श्रीराम जन्मभूमि पर राममंदिर के निर्माण के लिये उच्चतम न्यायालय द्वारा दिये गये निर्णय पर अखिल भारत हिन्दू महासभा का पक्ष रखने व आगामी योजना की जानकारी देने के लिये एक प्रेसवार्ता का आयोजन किया। अखिल भारत हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष चन्द्रप्रकाष कौषिक, राष्ट्रीय महासचिव मुन्ना कुमार शर्मा, एडवोकेट बरूण कुमार सिंहा, राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री वीरेष त्यागी, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डा. राकेष रंजन एवं राष्ट्रीय प्रवक्ता प्रमोद पंडित जोषी ने प्रेसवार्ता को संबोधित करते हुए अखिल भारत हिन्दू महासभा की आगामी योजना से अवगत कराया तथा संगठन का विचार प्रकट किया।
राष्ट्रीय अध्यक्ष चन्द्रप्रकाष कौषिक ने कहा कि हिन्दू महासभा 1934 से ही श्रीराम जन्मभूमि पर राममंदिर के निर्माण के लिये संघर्ष कर रही है। भाई परमानन्द एवं वीर सावरकर ने राममंदिर निर्माण की लड़ाई का नेतृत्व किया था एवं पंच श्रीरामानन्दीय निर्मोही अखाड़ा की लड़ाई का पूर्ण समर्थन किया था। मंहत दिग्विजयनाथ के संघर्ष के उपरान्त विवादित ढांचे में रामलला प्रकट हुए थे। परिणामस्वरूप हिन्दू महासभा के छः नेताओं पर मुकदमा चला एवं उन्हें जेल जाना पड़ा था। फैजाबाद न्यायालय, इलाहाबाद उच्च न्यायालय का लखनऊ बेंच एवं उच्चतम न्यायालय में हिन्दू महासभा ने रामलला विराजमान की ओर से मजबूती से मुकदमा लड़ा और श्रीरामजन्मभूमि पर राममंदिर के निर्माण का रास्ता प्रषस्त हुआ है। उन्होंने कहा कि हिन्दू महासभा के योगदान को देखते हुए महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष चन्द्रप्रकाष कौषिक, राष्ट्रीय महासचिव मुन्ना कुमार शर्मा, उच्चतम न्यायालय में हिन्दू महासभा का पक्ष रखने वाले एडवोकेट बरूण कुमार सिंहा, राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री वीरेष त्यागी, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डा. राकेष रंजन एवं राष्ट्रीय प्रवक्ता प्रमोद पंडित जोषी को सरकार द्वारा गठित होने वाले श्रीराम जन्मभूमि ट्रस्ट में ट्रस्टी बनाया जाये। उन्होंने कहा कि 18 नवंबर को हिन्दू महासभा भवन में आगे की रणनीति बनाने के लिये सभी हिन्दू पक्षकारों की बैठक आयोजित की जायेगी।

राष्ट्रीय महासचिव मुन्ना कुमार शर्मा ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, गृहमंत्री अमित शाह एवं उत्तरप्रदेष के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ से मांग की है कि श्रीराम जन्मभूमि पर राममंदिर के निर्माण के लिये संघर्ष करने वाले अखिल भारत हिन्दू महासभा सहित सभी पक्षकार संगठनों के पदाधिकारों को श्रीरामजन्मभूमि ट्रस्ट में ट्रस्टी बनाया जाये। तथा संघर्ष करने वाले सभी कारसेवकों पर चल रहे मुकदमे शीघ्र वापस लिये जायें उन्होंने घोषणा किया कि अन्य प्रमुख मंदिरों, जिन्हें तोड़ कर मस्जिद बनाई गई थी, पर उच्चतम न्यायालय द्वारा दिये गये निर्णय के विरूद्व उच्चतम न्यायालय में हिन्दू महासभा पुनर्विचार याचिका दाखिल करेगी। उन्होंने कहा कि श्रीकृष्ण जन्मस्थान मंदिर एवं काषी विष्वनाथ मंदिर का निर्माण शीघ्र होना चाहिए।
एडवोकेट बरूण कुमार सिंहा ने उच्चतम न्यायालय के निर्णय का स्वागत करते हुए कहा कि मुस्लिम पक्षकारों के पास श्रीरामजन्मभूमि के मालिकाना हक का कोई प्रमाण नहीं था। ऐसे मंे उच्चतम न्यायालय ने सरकार को राममंदिर का निर्माण कराने व मंदिर निर्माण व रखरखाव के लिये श्रीराम जन्मभूमि ट्रस्ट का गठन करने का आदेष देकर एक ऐतिहासिक निर्णय दिया है।
राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री वीरेष त्यागी ने मांग की है कि मंदिर निर्माण के संघर्ष में अपनी जान गंवानेवाले सभी कारसेवकों को शहीद का दर्जा दिया जाये तथा उनके परिवार को उचित मुआवजा दिया जाये। राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डा. राकेष रंजन ने सरकार से जानगंवाने वाले कारसेवकों के लिये अयोध्या में स्मारक बनाने की मांग की है। राष्ट्रीय प्रवक्ता प्रमोद पंडित जोषी ने कहा कि सरकार अधिग्रहित 67.77 एकड़ मंे से एक इंच भी जगह मुस्लिम पक्षों को न दी जाये। उन्होंने कहा कि अयोध्या की 84 कोसी परिक्रमा से बाहर ही कोई जगह मस्जिद के लिये दी जाये।

(मुन्ना कुमार शर्मा) (वीरेष त्यागी)
राष्ट्रीय महामंत्री राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री