केरल के लव-जिहाद की जाँच करेगी एनआइए ।

प्रतिष्ठा में,
श्री राजनाथ सिंह जी,
माननीय गृह मंत्री, भारत सरकार
नॉर्थ ब्लॉक, नई दिल्ली-110001

विषय :- केरल के लव-जिहाद की जाँच करेगी एनआइए ।
महोदय,
निवेदन है कि कुछ वर्ष पहले केरल उच्च न्यायालय में लव-जिहाद (इस्लाम के प्रसार की नई तकनीक) के मामलों पर विचार किया गया था और उस समय उच्च न्यायालय ने कई दर्जन मामलों की जाँच की थी और यह पता चला था कि सैंकड़ों हिन्दू लड़कियों को मुसलमान लड़कों ने लव-जिहाद में फँसाया और उनको मुसलमान बनाकर निकाह किए । उसके पश्चात् उन लड़कियों का क्या हुआ, यह पता नहीं चल सका, क्योंकि अपुष्ट सूचनाओं के अनुसार उनमें से अधिकांश को तलाक दिए गए और वे मारी-मारी फिरती रहीं । इस पर उच्च न्यायालय ने चिंताजनक निर्णय दिया था ।
गृह मंत्रालय कृपया उक्त मामले की पड़ताल करने का कष्ट करे । यह मामला अब उच्चतम न्यायालय में है और राष्ट्रीय अन्वेक्षण एजेंसी से इसकी जाँच कराई जाएगी । यह निश्चित है कि सैंकड़ों मामले केरल में हुए हैं और हिन्दू परिवारों को घोर संकट में डालने और पीड़ा देने का काम इस्लामी जिहादियों ने चला रखा है । यह भी निवेदन है कि गृह मंत्रालय भी अपने स्तर पर अन्य गुप्तचर एजेंसियों से सम्पूर्ण केरल में इस लव-जिहाद के मामलों की खोज-बीन स्थानीय स्वयंसेवी संस्थाओं के सहयोग से अवश्य कराए, जिससे यह मतांतरण प्रशिक्षण केंद्र बंद हो जाएँ ।

सादर, भवदीय

(चन्द्रप्रकाश कौशिक) राष्ट्रीय अध्यक्ष

(मुन्ना कुमार शर्मा)राष्ट्रीय महासचिव

(वीरेश त्यागी)  राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री