कश्मीर में धार्मिक स्थलों के दुरूपयोग को रोकने की मांग।

प्रतिष्ठा में,
श्री राजनाथ सिंह जी,
माननीय गृह मंत्री, भारत सरकार
नॉर्थ ब्लॉक, नई दिल्ली-110001

विषय :- कश्मीर में धार्मिक स्थलों के दुरूपयोग को रोकने की मांग।

महोदय,
कश्मीर में मजहबी (धार्मिक शब्द गलत, क्योंकि धर्म और मजहब में भारी अंतर है) स्थलों के दुरूपयोग पर संज्ञान लेने की कृपा करेंः-
1. मस्जिदों से जेहादी तराने जोर-शोर से बजाए जाते हैं ।
2. पांपोर की मस्जिद में देश के तिरंगे झण्डे के चित्र को देखकर भारत विरोधी नारे लगाए गए और मस्जिद के इमाम ने भी निर्लज्जता से तिरंगे के चित्र को स्वीकार नहीं करने की घोषणा की ।
3. पत्थरबाजों को उकसाने और भड़काने में मस्जिदों के इमाम अहम भूमिका निभा रहे हैं ।
4. आतंकियों और पत्थरबाजों के मानवाधिकारों की वकालत करने वालों पर भी सख्ती होनी चाहिए और कश्मीर में मुस्लिम मुल्लाओं के रवैये पर सख्त रुख अपनाया जाना चाहिए ।
आपसे अनुरोध है कि जम्मू-कश्मीर सरकार धार्मिक संस्थान (दुरुपयोग) निवारण अधिनियम 1988 को लागू करें ।
अनुरोध है कि इस विषय पर तत्काल कार्रवाई कराने की कृपा करें । इस सम्बंध में की गई कार्रवाई की जानकारी भिजवाने का कष्ट करें तथा धार्मिक स्थलों के दुरूपयोग पर पूरे देश में कानूनी प्रतिबंध लगाया जाये।
सादर, भवदीय

(चन्द्रप्रकाश कौशिक) राष्ट्रीय अध्यक्ष

(मुन्ना कुमार शर्मा) राष्ट्रीय महासचिव

(वीरेश त्यागी) राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री